ITI Fitter Exam Paper in Hindi

ITI Fitter Exam Paper In Hindi

ITI Fitter Theory Exam Paper In Hindi – जब आप किसी भी परीक्षा की तैयारी करते हैं तो आपको सबसे पहले उस परीक्षा का पैटर्न उसका सिलेबस पता होना बहुत ही जरूरी है ताकि आप कम से कम समय में भी उसकी अच्छी तैयारी कर पाए जो भी उम्मीदवार ITI Fitter की परीक्षा की तैयारी कर रहा है उसके लिए इस पोस्ट में ITI Fitter परीक्षा का पैटर्न और सिलेबस के अनुसार टेस्ट दिया गया है जिसे हल करके आप अपनी तैयारी को काफी बेहतर बना सकते हैं .ITI Fitter की तैयारी करने वाले सभी उम्मीदवारों के लिए हमारी वेबसाइट पर और भी काफी ऑनलाइन प्रैक्टिस सेट दिए हैं जिन्हें हल करके वह अपनी तैयारी को अच्छी कर सकते हैं.

1. स्प्रिंग स्टील में कार्बन की मात्रा निम्न में से उपलब्ध होती है :

⚪ 0.7%
⚪ 0.3%
⚪ 0.1%
⚪ 0.4%

2. श्रेड, टोलरेंस लिमिट के अंदर है या नहीं ज्ञात करने के लिए निम्न में से मापी यन्त्र उपयोग किया जाता है :

⚪ अंतिम सिरा
⚪ ऊपरी सिरा
⚪ ‘GO’-, ‘NO GO’ गेज
⚪ मध्य सिरा उपयोग

‘GO’-, ‘NO GO’ गेज

3. ”V” Block निम्न में से धातु के बनाए जाते हैं :

⚪ हाई कार्बन स्टील
⚪ कास्ट आयरन
⚪ माइल्ड स्टील
⚪ ब और स दोनों

हाई कार्बन स्टील

4. बहु उत्पादन की हानि निम्न में से है

⚪ विशेष प्रकार की मशीनों की जरूरत पड़ती है
⚪ जिग एवं फिक्सचर की जरूरत पड़ती है
⚪ प्रारंभिक खर्च काफी अधिक होता है
⚪ उपरोक्त सभी

उपरोक्त सभी।

5. हेलीकल टार्सन स्प्रिंग्स के निम्न में से उपयोग बताओ:

⚪ जहाँ उच्च लोड की आवश्यकता हो तथा सीमित स्थान उपलब्ध हो
⚪ ये स्प्रिंग टार्क का प्रतिरोध करने के लिए उपयोग किए जाते
⚪ मैकेनिज्म में मोटिव पावर देने के लिए
⚪ उपरोक्त सभी

उपरोक्त सभी

6. बहु उत्पादन के निम्न में से लाभ हैं :

⚪ अवयवों के निर्माण का समय कम हो जाता है
⚪ पूर्जा की लागत कम होती है
⚪ अतिरिक्त पूर्जे आसानी से मिल जाते हैं
⚪ उपरोक्त सभी

उपरोक्त सभी

7. जब कटिंग ऑयल कूलेण्ट तैयार करते हैं; तब

⚪ सोल्यूबल ऑयल और पानी को बारी-बारी मिलाना चाहिए
⚪ साबुन और सोल्यूबल ऑयल को मिलाना चाहिए
⚪ सोल्यूबल ऑयल को पानी में मिलाना चाहिए।
⚪ पानी को सोल्यूबल ऑयल में मिलाना चाहिए

सोल्यूबल ऑयल को पानी में मिलाना चाहिए।

8. ब्रिटिश प्रणाली में वर्नियर हाइट गेज की अल्प माप का मान होता है।

⚪ 0.01”
⚪ 0.001”
⚪ 0.0001”
⚪ ये सभी

0.001”

9. पिल्लर ड्रिलिंग मशीन की ओदर हॉलिंग में किस आयल का प्रयोग होता है

⚪ सर्वो वे 35 आयल
⚪ सर्वो वे 2
⚪ सर्वो वे 32 आयल
⚪ कोई नहीं

सर्वो वे 32 आयल

10. लेथ मशीन का स्पिण्डल ” मिश्रधातु का बना होता है।

⚪ निकिल-क्रोम
⚪ निकिल -वेनेडियम
⚪ टंग्स्टन-क्रोम
⚪ वेनेडियम-टंग्स्टन

निकिल-क्रोम

11. निम्नलिखित में प्रमुख प्रकार की ड्रिलिंग मशीन है :

⚪ सुग्राही अँच ड्रिलिंग मशीन
⚪ खंभा ड्रिलिंग मशीन
⚪ स्तं ड्रिलिंग मशीन
⚪ उपरोक्त सभी

उपरोक्त सभी

12. पिटवां लोहे से चेन की कड़ियाँ बनाई जाती है क्योंकि इनमें निमन में से गुण होता है :

⚪ अघातवर्द्धनीय
⚪ भंगुरता
⚪ तन्यता
⚪ कठोरता

तन्यता

13. निम्न में से ओवर हॉलिग की कितनी श्रेणियाँ है :

⚪ एक
⚪ दो
⚪ तीन
⚪ चार

14. सरफेस की रचना का वह जॉब जिस पर रफनैस अधिक प्रभावित होती है, उसे क्या कहते हैं

⚪ वेवीनैस
⚪ सरफेस टेक्सचर
⚪ ले
⚪ सरफेस रफनैस

वेवीनैस

15. पार्टिग ऑफ ऑपरेशन किस गति पर करना चाहिए?

⚪ ऑटोमैटिक फीड
⚪ उच्च स्पिण्डल टर्निग स्पीड
⚪ निम्न स्पिण्डल स्पीड
⚪ परिवर्तनीय स्पिण्डल स्पीड

निम्न स्पिण्डल स्पीड

16. साधारण कार्यों में प्रयुक्त रफनैस मानों को 12 ग्रेडों में किस प्रकार प्रदर्शित किया जाता है –

⚪ 0 से 12
⚪ N-0 से N-12
⚪ 1 से 12
⚪ N-1 से N-12

1 से 12

17. स्कू पिच गेज के प्रत्येक ब्लेड पर निम्न में से मि. मी. तक चूड़ी – रूप बनाया जाता है :

⚪ 10 से 50 मि.मी.
⚪ 25 मि.मी. से 30 मि.मी.
⚪ 60 से 80 मि.मी.
⚪ 90 मि.मी. से 100 मि.मी.

25 मि.मी. से 30 मि.मी.

18. मापी औजार प्रायः निम्न में से धातु के बनाए जाते हैं :

⚪ उच्च कार्बन इस्पात
⚪ माइल्ड इस्पात
⚪ कास्ट इस्पात
⚪ ढलवाँ लोहा

माइल्ड इस्पात

19. निम्न में से बाइट की परिभाषा है :

⚪ रस्सी के एक भाग को दूसरे भाग से जोड़ने को
⚪ लूप के साइड को आगे मोड़कर बनता है
⚪ रस्से को मोड़ने की विधि
⚪ साइड को क्रॉस करके लूप या टर्म बनता है।

रस्से को मोड़ने की विधि

20. प्लेन बीयरिंग की निम्न में से विशेषता बताओ।

⚪ ये प्लेन बीयरिंग्स सिलेण्ड्रीकल आकार में होती है
⚪ रोलर फिट करने में
⚪ ये हाउसिंग में फिट होती है
⚪ A और C

A और C

21. सतह कठोरण के लिए प्रयुक्त इस्पात में निम्न में से प्रतिशत कार्बन की मात्रा होती है :

⚪ 0.35% से 0.7% तक
⚪ 0.30% से 0.8% तक
⚪ 0.40% से 0.6% तक
⚪ 0.32% से 0.11% तक

0.35% से 0.7% तक

22. निम्न में से एक माइक्रोन बराबर होता है :

⚪ 1/100 मि. मी.
⚪ 1/10 मि मी.
⚪ 1/1000 मि. मी.
⚪ /1000 मि. मी.

/1000 मि. मी.

23. पुल्ली, कॉलर आदि को शॉफ्ट के साथ जोड़ने में प्रयोग होने वाला स्कू कौन-सा है?

⚪ ग्रब स्कू
⚪ हैक्सागनल सॉकेट सेट स्कू
⚪ राउण्ड हेड स्क्रू
⚪ स्क्वायर सैट स्क्रू

हैक्सागनल सॉकेट सेट स्कू

24. समलम्बाकार चूड़ियों में फ्लैंक के बीच का कोण निम्न में से होता

⚪ 60°
⚪ 90°
⚪ 30°
⚪ 45°

25. भट्टी का निम्न में से मुख्य कार्य निम्न में से है :

⚪ धातु को ठंडा करना
⚪ धातु को मुलायम बनाना
⚪ धातु को तप्त करना
⚪ धातु को स्थिर रखना

धातु को तप्त करना

26. फोर्ज के अन्दर कोल को जलाने के लिए आवश्यक हवा एक विशेष पार्ट के द्वारा भेजी जाती है, जिसे ठण्डा रखने की व्यवस्था फोर्ज में ही होती है, उसे कहते हैं।

⚪ एयर पाइप
⚪ ब्लोअर
⚪ पंखा
⚪ ट्वायर्स

ट्वायर्स

27. साधारण कैलीपर्स निम्न धातु के बनाए जाते हैं।

⚪ माइल्ड स्टील
⚪ हाई कार्बन रील
⚪ टूल स्टील
⚪ स्टेनलेस स्टील

माइल्ड स्टील

28. गहराई माइक्रोमीटर का अल्पसंख्यक निम्न में से है :

⚪ 0.02 मि.मी.
⚪ 0.2 मि.मी.
⚪ 0.3 मि.मी.
⚪ 0.1 मि.मी.

0.02 मि.मी.

29. वैल्डन करते समय वैल्डन रॉड का वैल्ड रेखा से उचित कोण निम्न में से हैं।

⚪ 30°-45°
⚪ 45-60°
⚪ 60-70°
⚪ 70-80°

70-80°

30. निम्न में से माप की प्रचलित प्रणालियाँ है:

⚪ ब्रिटिश और मीट्रिक
⚪ ब्रिटिश
⚪ मीट्रिक
⚪ ब और स दोनों

ब और स दोनों

31. जैनी कैलीपर की टांगे निम्न में से होती है :

⚪ एक सीधी और एक मुड़ी हुई
⚪ दोनों सीधी
⚪ दोनों मुड़ी हुई
⚪ इनमें से कोई नहीं

एक सीधी और एक मुड़ी हुई

32. 1 मीटर में निम्न में से इंच होते हैं:

⚪ 25.4
⚪ 2.54
⚪ 39.31
⚪ 40

33. भेदना की परिभाषा निम्न में से है :

⚪ जॉब तथा जोड़ सतह से वैल्ड
⚪ जॉब तथा जोड़ सतह का संगलन माप ,
⚪ जॉब तथा जोड़ सतह में वैल्ड के संगलन की गहराई
⚪ जॉब तथा जोड़ सतह का परिधिय माप

जॉब तथा जोड़ सतह में वैल्ड के संगलन की गहराई

34. स्नैप हैड रिवेट की लम्बाई ज्ञात करने के लिए शॉप फ्लोर में प्रयोग किए जाने वाला सूत्र निम्न में से है:

⚪ L=T+1.0d
⚪ L=T+1.9d
⚪ L=T+1.5d
⚪ L= T+16d

L=T+1.5d

35. पैरैलल हैण्ड रीमर ”” धातु को काट सकता है।

⚪ 0.05 से 0.115 मिमी
⚪ 0.05 से 0.125 मिमी
⚪ 0.05 से 0.135 मिमी
⚪ 0.05 से 0.15 मिमी

0.05 से 0.125 मिमी

36. एंटी फिक्शन बीयरिंग निम्न में से किस धातु का बना होता है :

⚪ पीतल
⚪ ब्रास स्टील या प्लास्टिक
⚪ एल्युमिनियम
⚪ टीन

ब्रास स्टील या प्लास्टिक

37. डिवाइडर निम्न में से प्रकार के होते हैं :

⚪ स्प्रिंग टाइप
⚪ दृढ़ जोड़
⚪ उपरोक्त अ तथा ब
⚪ कोई भी नही

उपरोक्त अ तथा ब

38. सही साइज बनाए रखने तथा सभी कोर के जोड़ की सामर्थ्य सुधारने के लिए निम्न में से जरूरी है

⚪ लिमिट
⚪ फिट
⚪ टॉलरेन्स
⚪ अलाऊस

अलाऊस

39. तांबा निम्न में से अयस्क से बनाया जाता है : (अ) (ब) A (स)

⚪ टंगस्टन
⚪ कॉपर पाइराइट
⚪ मैंगनीज
⚪ कार्बोनेट

कॉपर पाइराइट

40. रिवेट विभिन्न आकार वाले शीर्ष के रूप में एक निम्न में से छड़ है?

⚪ वर्गाकार
⚪ बेलनाकार
⚪ चपटी
⚪ मुड़ी हुई

बेलनाकार

41. मशीनों की लेवलिंग :::::” के अनुसार करते हैं।

⚪ गुरुत्व केन्द्र
⚪ वजन
⚪ स्प्रिट लेवल
⚪ प्रचालन

स्प्रिट लेवल

42. रोलिंग एलीमेंटस निम्न में से किस धातु का बना होता है :

⚪ ढलवां लोहा
⚪ कास्ट आयरन
⚪ क्रोमियम या क्रोम निकिल स्टील
⚪ हार्ड कार्बन स्टील

क्रोमियम या क्रोम निकिल स्टील

43. निम्न में से क्राउनिंग को परिभाषित किया जाता है :

⚪ रस्से का विशेष भाग होता है जो गति संचालन में सहयोगी होता है
⚪ यह जोकी पुल्ली है जो बैल्ट के तनाव में सहायक है।
⚪ यह रस्सा होस्ट में गांठ न खुले यह सहायता करता है
⚪ यह रस्से के सिरे को कुछ बड़ा करके रस्से के स्ट्रेंड को साफ, मजबूत तथा स्थाई बनाने की विधि है।

यह जोकी पुल्ली है जो बैल्ट के तनाव में सहायक है।

44. दस्ती हथौड़ी का लगभग भार निम्न में से होता है :

⚪ 4 से 5 कि. ग्रा.
⚪ 3 से 2 कि. ग्रा.
⚪ 1 से 2 कि. ग्रा.
⚪ 1 से 5 कि. ग्रा.

1 से 2 कि. ग्रा.

45. निम्न में से चूड़ी के दो पाश्र्वो को मिलाने वाली ऊपरी सतह होती है:

⚪ रूट
⚪ फ्लैंक
⚪ गहराई
⚪ शिखर

शिखर

46. वर्नियर बेवल प्रोट्रेक्टर की वर्नियर स्केल के इस भाग पर निम्न में से युक्ति लगी होती है :

⚪ डायल
⚪ स्टॉक
⚪ ब्लेड
⚪ इनमें से कोई नहीं

डायल

47. शैकल का आकार निम्न में से होता है :

⚪ U
⚪ V
⚪ W
⚪ X

48. वाइस के अत्याधिक कसने पर निम्न में से भाग खराब हो सकती

⚪ जबड़ा
⚪ स्प्रिंग
⚪ हैण्डिल
⚪ स्पिण्डल

स्पिण्डल

49. इन साइड कैलीपर की दोनों टाँगे निम्न में से डिग्री पर मुड़ी होती

⚪ 45-45”
⚪ 60°
⚪ 459
⚪ 45”

45-45”

50. प्राय: ड्रिल का लिप क्लीयरेंस ऐंगल निम्न की ओर बढ़ता है :

⚪ सेंटर से परीधी तक
⚪ मार्जिन से प्वाइंट तक
⚪ क व ख
⚪ परीधी से सेंटर तक

परीधी से सेंटर तक

ITI Fitter परीक्षाओं की तैयारी करने वाले सभी उम्मीदवारों के लिए इस पोस्ट में Fitter Trade Question Paper In Hindi Pdf Iti Fitter Model Question Paper Pdf In Hindi Iti Fitter Theory Exam Papers In Hindi आईटीआई फिटर ट्रेड हिंदी क्वेश्चन आई टी आई मॉडल पेपर Fitter आईटीआई फिटर क्वेश्चन पेपर इन हिंदी पीडीएफ आईटीआई पेपर इन हिंदी 2018 से संबंधित काफी महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है यह जानकारी फायदेमंद लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और इसके बारे में आप कुछ जानना यह पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके अवश्य पूछे.

2 Comments
  1. Hareram kumar says

    Hello sir

  2. deepak kumar says

    hame certificate chahiye I t I fiter

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!