Electrical

 Lead acid Battery Vs Lithium Iron Phosphate Battery Lifepo4 In Hindi

Lead acid Battery Vs Lithium Iron Phosphate Battery Lifepo4 In Hindi

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सभी उम्मीद करता हूं कि आप सभी ठीक होंगे और दोस्तों आज की इस पोस्ट में मैं आपको लिथियम बैटरी और लेड एसिड बैटरी के बारे में जानकारी देने वाला हूं दोस्तों लेड एसिड बैटरी हम अपने घरों में बहुत सालों से यूज करते आ रहे हैं हम अपने इन्वर्टर के ऊपर जो बैटरी लगाते हैं उसको लेड एसिड बैटरी बोलते हैं और इसमें दोस्तों वैसे तो काफी सारी कमियां थी जिसकी वजह से लिथियम टेक्नोलॉजी वाली बैटरी को लाया गया है तो अभी दोस्तों इस लिथियम टेक्नोलॉजी वाली बैटरी के अंदर भी कुछ कमियां हैं.

जिनके बारे में हम इस पोस्ट में बात करने वाले हैं और हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं कि आपके घर के लिए कौन सी बैटरी सही रहेगी कौन सी बैटरी का प्राइस कम होगा और कौन सी बैटरी ज्यादा बैटरी बैकअप देगी इन सभी के बारे में हमें आज यहाँ पर बात करने वाले हैं तो दोस्तों यदि आपको भी लिथियम बैटरी और लेड एसिड बैटरी के बारे में जानकारी लेनी है तो आप इस पोस्ट को ऊपर से लेकर नीचे तक पूरी पढ़ें जिसके बाद में आपको पता चल जाएगा कि कौन सी बैटरी अपके घर के लिए सही है और कौनसी बैटरी का कितना प्राइस है तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं.

Lead acid vs Lifepo4

लेड एसिड बैटरी हम काफी सालों से इस्तेमाल करते आ रहें है सबसे पहले जो बैटरी हम इस्तेमाल कर रहे थे वह लेड एसिड बैटरी ही है और यह टेक्नोलॉजी काफी साल पुरानी है करीब 150 साल पुरानी है और दोस्तों इस बैटरी को लोग इसलिए खरीदते क्योंकि एक तो इसका प्राइस कम है और एक हमारे पास कोई दूसरा आप्शन नहीं था लेकिन दोस्तों अब जैसे – जैसे टेक्नोलॉजी में बदलाव आ रहें है हमारें पास बैटरी का दूसरा आप्शन भी मिलने लगा है और वह है लिथियम बैटरी का हमारी जो लेड एसिड बैटरी ही इसमें काफी सारी कमी है जैसे की इसकी मेंटेन्स बहुत ज्यादा है.

इसका बैटरी बैकअप भी कम है इसमें हम जितनी पॉवर स्टोर करते है उतनी पॉवर हमें वापस नहीं मिलती है और सबसे बड़ा कारण की इस लेड एसिड बैटरी का वजन और साइज़ बहुत ज्यादा है लेकिन अभी जो लिथियम बैटरी मार्किट में आई हुई है इस बैटरी में ये सभी Disadvantages नहीं है इसमें आपको ना तो कोई मेंटेन्स करने की जरूरत है और न ही इस बैटरी का वजन और साइज़ बड़ा है इसे आप दीवार के ऊपर भी लगा सकते है लेकिन एक समस्या है दोस्तों और वो है की दोस्तों इस बैटरी का प्राइस ज्यादा है.

अगर आपको एक 150Ah की लेड एसिड बैटरी 14 हजार में मिलती है तो वही पर आपको एक 100Ah की लिथियम बैटरी करीब 25 से 30 हजार के आसपास में मिलेगी लेकिन दोस्तों इस बैटरी के फायदों के बारें में जब आपको पता चलेगा तो आप इस लिथियम बैटरी को ही लेने की कोसिस करेंगें इस लिथियम बैटरी की बैटरी लाइफ 15 साल है और 15 साल में यह बैटरी आपके घर के बिजली बिल को इतना कम कर देगी की आप 2, 3 लिथियम बैटरी और लेलेंगें और दोस्तों यहाँ पर हम Lifepo4 बैटरी की बात कर रहें है.

लिथियम टेक्नोलॉजी की एक बैटरी और होती है जिसे लिथियम आयन बैटरी बोलते है और इस बैटरी का इस्तेमाल फ़ोन में किया जाता है तो दोस्तों आगे हम इस बैटरी के अंतर और इसके फायदों के बारें में बात करेंगें तो चलिए दोस्तों शुरू करते है

Lead acid vs Lifepo4 Difference Between

S.No. Specification Lead acid Lifepo4
1. Technology Old New
2. Nominal Voltage 2.1V 3.2V
3. Energy Density 35wh/kg 160wh/kg
4. Efficiency 65-75% 97%
5. Battery Life 3,4 Years 15,17 Years
6. Weight High Medium
7. Self Discharge 20% >5%
8. Safety Low High
9. Price Rs. 12,000 Rs. 28,000
10. Best Yours Yours

1. Technology

सबसे पहले दोस्तों आपको यह बात तो पता होगी की हमारी जो लेड एसिड बैटरी है यह बहुत पुरानी है इसलिए इसकी टेक्नोलॉजी पुरानी है और जो लिथियम बैटरी है यह अभी मार्किट में आई है तो इसकी टेक्नोलॉजी नई है

2. Nominal Voltage

नॉमिनल वोल्टेज की यदि हम यहाँ पर बात करें तो लेड एसिड बैटरी की नॉमिनल वोल्टेज 2.1 वोल्ट होती है और इसकी जो 12 वोल्ट की बैटरी होती है उसको बनाने के लिए हमें 6 सेल जोड़ने पड़ेंगें और जो हमारी लिथियम बैटरी है इसकी नॉमिनल बैटरी वोल्टेज 3.2 वोल्ट दी गई है और इसकी यदि हमें 12 वोल्ट की बैटरी बनानी है तो हमें 4 सेल जोड़ने होंगें और दोस्तों यहाँ पर हम Lifepo4 बैटरी की बात कर रहें है लिथियम टेक्नोलॉजी की एक बैटरी और होती है जिसे लिथियम आयन बैटरी बोलते है और इस बैटरी का इस्तेमाल फ़ोन में किया जाता है और इसका प्राइस बहुत ज्यादा होता है लेकिन इससे हम 12 वोल्ट की बैटरी नहीं बना सकते है क्योंकि इसकी नॉमिनल बैटरी वोल्टज 3.7वोल्ट दी गई है.

3. Energy Density

Energy Density का मतलब यह होता है कि आप कितनी कम जगह में कितनी ज्यादा पावर स्टोर करके रख सकते हैं वह Energy Density कहलाता है Lead acid बैटरी में Energy Density सबसे कम होती है इसमें 35 वाट हॉर्स पर किलोग्राम Energy Density होती है वही यदि Lifepo4 बैटरी की Energy Density की बात करें तो इसकी Energy Density 160wh/kg है बैटरी की Energy Density ज्यादा होने का फायदा यह होता है कि इससे बैटरी का वेट और साइज कम हो जाता है आज के समय में लगभग सभी के घरों में Lead acid बैटरी लगी हुई होती है जैसे कि हमारे घर में इनवर्टर के ऊपर सपोर्ट करते हो और लेड एसिड बैटरी होती है.

वह काफी भारी होती है और उसका साइज भी ज्यादा बड़ा होता है वही लिथियम आयन बैटरी जो होती है वह बहुत हल्की होती है आपने देखा हो तो हमारे मोबाइल के अंदर लिथियम आयन बैटरी होती है तो वह काफी हल्की होती है और इसका साइज भी छोटा होता है और जो लिथियम फास्फोरस बैटरी है यह इन दोनों के बीच की है यानी कि यह ज्यादा हल्की भी न हीं होती और ज्यादा भरी भी नहीं होती और इसका साइज ज्यादा बढ़ा भी नहीं होता और ज्यादा छोटा भी नहीं होता तो यह इसका मीडियम साइज है.

4. Efficiency

बैटरी की एफिशिएंसी को आप कुछ इस तरीके से समझ सकते हैं कि मान लीजिए आप एक बैटरी को चार्ज करने में 1000 वाट लाइट देते हैं और आप उस बैटरी से वापस कितने वाट बिजली ले सकते हैं यह बैटरी की एफिशिएंसी कहलाती है तो इनमें से Lead acid बैटरी की एफिशिएंसी बहुत कम 65-75% होती है और Lifepo4 की बैटरी एफिशिएंसी भी 97% है

5.Battery Life

जो हम बैटरी को एक बार चार्ज करके उसको फिर वापस डिस्चार्ज करते हैं तो इसको हम बैटरी लाइफ कहते हैं तो एक Lead acid बैटरी को आप करीब 700 से 800 बार डिस्चार्ज और चार्ज कर सकते हैं वहीं यदि Lifepo4 बैटरी के बारे में बात करें तो इसको आप करीब 4 से 5 हजार बार चार्ज और डिस्चार्ज कर सकते हैं .

6.Weight

वजन कि यदि यहां पर हम बात करें तो हमारी जो लेड एसिड बैटरी होती है यह सभी बैटरीयों से भारी होती है एक 150Ah की लेड एसिड बैटरी का वजन कम से कम 45 से 50 किलो के आसपास होता है वही दोस्तों यदि हम Lifepo4 बैटरी की वेट के बारे में बात करें तो 100Ah की Lifepo4 बैटरी का वजन 12 या फिर 13 किलो के आसपास होता है और इसका साइज भी बहुत ही छोटा होता है जबकि लेड एसिड बैटरी का साइज बहुत बड़ा हो जाता है और यह एक आदमी से नहीं उठती है इसलिए इसे उठाने के लिए दो आदमियों की जरूरत होती है जबकि लिथियम फास्फोरस बैटरी को एक छोटा बच्चा भी उठा कर कहीं पर भी ले जा सकता है

7.Self Discharge

सेल्फ डिस्चार्ज का मतलब होता है कि हमारी जो बैटरी होती है इसको हम जब चार्ज करके छोड़ देते हैं बिना यूज किए तो यह ऑटोमेटिक डिस्चार्ज होने लग जाती है इसी चीज को सेल्फ डिस्चार्ज कहा जाता है हमारी जो लेड एसिड बैटरी होती है यह करीब 20% सेल्फ डिस्चार्ज हो जाती है मान लीजिये हम इसे 100% चार्ज करके रख देते हैं महीने के लिए तो यह 1 महीने के अंदर करीब 20% डिस्चार्ज हो जाएगी लेकिन वही हमारी यह जो लिथियम बैटरी है यह करीब 5% के आसपास ही डिस्चार्ज होगी तो इसका जो सेल्फ डिस्चार्ज रेट है वह भी अच्छा है इसे आप चार्जिंग करके लंबे समय तक रख सकते हैं और इसका पूरा बैटरी बैकअप आप ले सकते हैं

8.Safety

सेफ्टी कि यदि यहां पर बात की जाए तो जो हमारी पुरानी लेड एसिड बैटरी होती है इनके अंदर हमें सेफ्टी देखने को नहीं मिलती है क्योंकि दोस्तों यह है ओवरचार्जिंग भी हो जाती है और ज्यादा चार्ज होने के कारण है बैटरी खराब भी हो जाती है और दोस्तों कई बारी बैटरी फट भी जाती है क्योंकि ज्यादा चार्ज होने की वजह से या फिर इसके पास कोई गर्म चीज रखने से या बैटरी फट भी जाती है और मान लीजिये बैटरी के ऊपर के टर्मिनल के वायर आपस में अटेच हो जाते हैं तो यह बैटरी जल सकती है और खराब हो सकती है.

क्योंकि इसके ऊपर आपको कोई सेफ्टी देखने को नहीं मिलती है जबकि दोस्तों हमारी जो लिथियम बैटरी होती है इसके अंदर आपको कई कंपनी MCB भी दे देती है जिससे कि यदि कोई फाल्ट हो जाता है तो MCB ट्रिप हो जाती है और आपकी बैटरी बंद हो जाती है और खराब होने से बच जाती है और लिथियम बैटरी की बाहर की जो बॉडी होती है वह stainless-steel से बनाई जाती है जिससे यदि यह बैटरी फट भी जाती है तो उस स्टील के बॉक्स के अंदर ही रह जाती है बाहर की तरफ इसका कोई खतरा नहीं होता है तो यह काफी सारी सेफ्टी आपको लिथियम बैटरी के अंदर देखने को मिलती है

9.Price

प्राइज के दोस्तों यदि यहां पर बात करें तो जैसे कि मैंने आपको पहले भी बताया ऊपर कि हमारी जो लिथियम बैटरी होती है इसका प्राइस थोड़ा ज्यादा होता है लेकिन अभी मैंने जो इसके बारे में डिटेल दी है और इनमें आपको अंतर बताया है उन्हें आपको समझ में आ गया होगा कि आपको कौन सी बैटरी लेनी चाहिए आपको लिथियम बैटरी लेनी चाहिए या फिर लेड एसिड बैटरी लेनी चाहिए तो दोस्तों एक 100 Ah की लेड एसिड बैटरी का प्राइस 12 हजार के करीब हो सकता है जबकि दोस्तों 100Ah की लिथियम बैटरी का प्राइस 25 से 28 हजार के बीच में हो सकता है तो दोस्तों प्राइस के मामले में तो लिथियम बैटरी थोड़ी महंगी है लेकिन इसके फायदे बहुत ही ज्यादा है

कौनसी बैटरी खरीदें

दोस्तों अभी आपको कौन सी बैटरी खरीदनी चाहिए यह आपके ऊपर डिपेंड करती है जैसे कि दोस्तों हमने आपको ऊपर बताया कि यदि आपके पास पैसा अच्छा है और आप एक मेंटेनेंस फ्री और कम जगह रोकने वाला सोलर सिस्टम अपने घर में लगवाना चाहते हैं तो आप लिथियम बैटरी का यूज कर सकते हैं इस बैटरी को आप अपने दीवार के ऊपर भी लगा सकते हैं और हालांकि दोस्तों अभी लिथियम इनवर्टर भी आते हैं जिसके अंदर यह लिथियम बैटरी इनबिल्ट मिलती है तो यदि आपके पास पैसे अच्छे हैं तो आप लिथियम इनवर्टर भी ले सकते हैं और यदि आपके पास पैसे कम हैं.

आप अपने पुराने इन्वर्टर के ऊपर लिथियम बैटरी लगाना चाहते हैं तो आपने नेक्सस कंपनी के लिथियम बैटरी ले सकते हैं इसका प्राइस 25000 के आसपास है तो आप इस बैटरी को अपने पुराने इनवर्टर के ऊपर लगाकर अपने पुराने इन्वर्टर को लिथिम में बदल सकते हैं तो दोस्तों यदि आपके पास पैसे अच्छे हैं तो आप इनमें से लिथियम बैटरी ले सकते हैं और यदि आपके पास पैसे कम है और आप मेंटेनेंस करना पसंद करते है तो फिर आप लेड एसिड बैटरी ले सकते हैं यह अब आपके ऊपर डिपेंड करती है

तो दोस्तों उम्मीद है कि आपको पता चल गया हुआ कि लेड एसिड और लिथियम बैटरी में क्या फर्क है और हमें अपने घर में कौन सी बैटरी लगानी चाहिए तो यदि इसके बारे में आपका कोई सवाल यह सुझाव हो तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते हैं तो मिलते हैं दोस्तों इसी तरह की नेक्स्ट जानकारी के साथ तब तक के लिए धन्यवाद .

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Smarten 6 किलोवाट सोलर सिस्टम लगवाने की कीमत Eapro 2 किलोवाट सोलर सिस्टम लगवाने की कीमत Eapro 1 किलोवाट सोलर सिस्टम लगवाने की कीमत भारत के सबसे सस्ते सोलर पैनल 1 किलोवाट सोलर सिस्टम से क्या क्या चलेगा