Electrical

सोल्डरिंग क्या है और सोल्डरिंग के प्रकार

सोल्डरिंग क्या है और सोल्डरिंग के प्रकार

एक जैसी या अलग-अलग प्रकार की धातुओं को आपस में जोड़ने के लिए जो प्रक्रिया इस्तेमाल की जाती है उसे सोल्डरिंग कहा जाता है. इसी प्रकार तारों को जोड़ने के लिए मिश्र धातु के सोल्डर का इस्तेमाल किया जाता है. इस प्रक्रिया में सोल्डर को पहले गर्म किया जाता है और फिर उसे तारों के ऊपर लगाया जाता है. तारों पर लगाने के बाद में वह सोल्डर ठंडा हो जाता है और जम जाता है और तार आपस में जुड़ जाते हैं. सोल्डरिंग का इस्तेमाल तारों को मजबूती से जोड़ने के लिए किया जाता है ताकि तार अच्छे से जुड़ जाएं और इनमें बिजली का प्रवाह 100 प्रतिशत हो जाए.

तार या धातुओं को जोड़ने के लिए जिस सोल्डर का इस्तेमाल किया जाता है. उस सोल्डर धातु का गलनांक हमेशा ही जोड़ें जाने वाली तार या धातु से कम होता है. और तार को जोड़ने के लिए सोल्डरिंग आयरन का इस्तेमाल किया जाता है सोल्डरिंग आयरन की मदद से सोल्डर को आसानी से मिलाकर तारों के ऊपर लगाया जाता है जिसे टांका लगाना या सोल्डरिंग कहते हैं. अगर आप बिजली का कोई कार्य करते हैं या इलेक्ट्रीशियन की पढ़ाई करते हैं तो आपको सोल्डरिंग करने के लिए प्रेक्टिस करने की बहुत ज्यादा जरूरत है क्योंकि बिना प्रैक्टिस के अच्छी सोल्डरिंग नहीं कर पाते. और इसीलिए सर्किट में कोई ना कोई गलती हो जाती है. किसी भी प्रकार की सोल्डरिंग करने से पहले आप उसके ऊपर काफी प्रैक्टिस करें.

सोल्डर क्या है – What is Solders

सोल्डर एक मिश्रित धातु (Alloy Metal ) है जिसका गलनांक सोल्डरिंग की जाने वाली धातु से कम होता है. यहां पर मिश्रित धातु का अर्थ है कि सोल्डर में दो या दो से अधिक धातुओं को मिलाया जाता है. और इस प्रकार दो या दो से अधिक धातुओं को मिलाकर बनाई गई धातु को मिश्रित धातु कहते हैं. यह दो प्रकार का होता है.

1.कठोर सोल्डर :–  कठोर सोल्डर का गलनांक पॉइंट काफी अधिक होता है इसीलिए इसका इस्तेमाल भी काफी ज्यादा किया जाता है और इसका इस्तेमाल अधिक गलनांक पॉइंट वाली धातु जैसे ब्रास लोहा स्टील इत्यादि पर सोल्डरिंग करने के लिए किया जाता है.

2.नरम सोल्डर :-नरम सोल्डर का गलनांक पॉइंट कठोर सोल्डर की तुलना में बहुत कम होता है . नरम सोल्डर एक तार के रूप में होता है. ज्यादातर नरम शोल्डर तीन और शीशे को मिलाकर बनाया जाता है और इस का गलनांक पॉइंट धातुओं की प्रतिशत मात्रा पर निर्भर करता है. अगर टिन धातु की मात्रा को ज्यादा रखा जाए तो गलनांक पॉइंट कम हो जाता है और अगर टिन तत्वों की मात्रा को कम कर दिया जाए तो गलनांक पॉइंट ज्यादा हो जाता है. सोल्डर का इस्तेमाल तांबा और एलमुनियम की तारों को जोड़ने के लिए किया जाता है.

फ्लक्स क्या है – What is  Flux

सोल्डरिंग करते समय चारों और धातु पर ऑक्साइड की परत जम जाती है इसी परत को हटाने के लिए फ्लक्स का इस्तेमाल किया जाता है. फ्लक्स दो प्रकार का होता है तरल और पेस्ट . अलग-अलग कार्यों के लिए अलग-अलग प्रकार के फ्लक्स का इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन जिन फ्लक्स में अमल होता है वह बिजली के काम के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता इसके कुछ महत्वपूर्ण प्रकार नीचे दिए गए हैं.

  • हाइड्रोक्लोरिक एसिड (Hydrochloric Acid)
  • जिंक क्लोराइड (Zinc Chloride)
  • ब्रोज़ा या फलक्साइट (Resin & Fluxite)
  • अमोनियम क्लोराइड (Ammonium Chloride)
  • सुहागा (Borax )

तांबा, पीतल और बिजली का काम करने के लिए जिंक क्लोराइड,ब्रोज़ा और अमोनियम क्लोराइड का इस्तेमाल किया जाता है. एल्मुनियम के लिए ब्रोज़ा और स्टीय रिन का इस्तेमाल किया जाता है. Galvanize आयरन की तार और चादरों के लिए हाइड्रोलिक एसिड का इस्तेमाल किया जाता है. गन मेटल के लिए जिंक क्लोराइड और ब्रोज़ा का इस्तेमाल किया जाता है. कास्ट आयरन के लिए अमोनियम क्लोराइड का इस्तेमाल किया जाता है .

सोल्डरिंग कैसे की जाती है

How To Do soldering In Hindi ?सोल्डरिंग दो प्रकार से की जाती है. एक प्रकार की सोल्डरिंग में हमें बिजली की आवश्यकता होती है और दूसरी प्रकार के सोल्डरिंग में हमें आग की जरूरत होती है. तो दोनों ही सोल्डरिंग कैसे और किस प्रकार की जाती है इसके बारे में नीचे बताया गया है.

इलेक्ट्रिक सोल्डरिंग आयरन

सोल्डरिंग आयरन एक बिजली से चलने वाला यंत्र है जिसमें एक हीटिंग एलिमेंट होता है और जब हम इस हीटिंग एलिमेंट में इलेक्ट्रिसिटी देते हैं तो यह गर्म होता है और इसके साथ जुड़ी कोपर कि बिट गर्म हो जाती है.एक सामान्य बिजली के सर्किट में तार जोड़ने के लिए हमें 125 Watt के सोल्डर आयरन की आवश्यकता होती है जिससे हम बड़ी आसानी से किसी भी तार को किसी सर्किट बोर्ड पर जोड़ सकते हैं. लेकिन सोल्डरिंग आयरन को ज्यादा गरम नहीं करना चाहिए नहीं तो इससे सोल्डरिंग अच्छी तरह से नहीं की जा सकती. सोल्डरिंग आयरन पर सोल्डर वायर को लगा कर देख लेना चाहिए अगर सोल्डर वायर लगाने पर इसमें बहुत ज्यादा धुआं निकलता है तो इसका मतलब सोल्डरिंग आयरन ज्यादा गर्म हो चुका है इसे बंद कर देना चाहिए और थोड़ा ठंडा होने के बाद में सोल्डरिंग करनी चाहिए.

सोल्डरिंग आयरन गर्म होने के बाद में उस पर सोल्डर वायर लगाएं और जिस तार को जोड़ना है. उस तार पर फ्लेक्स लगा लेना चाहिए. और जहां पर भी आपको वह तार जोड़ना है. वहां पर लगाकर उस पर सोल्डरिंग आयरन रख दें .सोल्डरिंग आयरन पर लगा सोल्डर उतर कर तार पर लग जाएगा और तार जुड़ जाएगा. तो इस प्रकार सोल्डरिंग आयरन की मदद से आप किसी भी सर्किट बोर्ड में या कोई भी तार आपस में जोड़ सकते हैं.

सोल्डरिंग आयरन करते समय आपको काफी सावधानी बरतनी चाहिए. जैसे कि सोल्डरिंग आयरन की बीट कोपर की होनी चाहिए. और सोल्डर आयरन की बिट टिनड होनी चाहिए. सोल्डरिंग आयरन कभी भी ज्यादा गरम नहीं करना चाहिए और इसकी बिट को हमेशा साफ सुथरा रखना चाहिए और सोल्डरिंग करने से पहले तार पर फ्लेक्स लगाना ना भूलें.

प्रतिरोध की गणना कैसे करें – How To Calculate Resistance Value

ब्लो लैंप सोल्डरिंग

Blow lamp के द्वारा बड़ी-बड़ी केबलों के जोड़ों को सोल्डर किया जाता है. सबसे पहले जोड़ को चारों तरफ से गर्म किया जाता है. जोड़ गरम होने के बाद में उसके ऊपर ब्रोज़ा या फलक्साइट लगाया जाता है और फिर सोल्डर की छड जोड़ पर लगा दी जाती है और ब्लो लैंप से उस सोल्डर को गर्म किया जाता है. सोल्डर गर्म होने के बाद में उस जोड़ पर समान रूप से फैल जाता है. और सोल्डर जोड़ों के बीच में भर जाता है और जोड़ काफी मजबूत हो जाता है. अगर हम जोड़ को पहले गर्म नहीं करेंगे . तो फिर क्या हुआ सोल्डर उस जोड़ के बीच में अच्छे से नहीं भरेगा और वह जोड़ ज्यादा मजबूत नहीं होगा. इसलिए पहले जोड़ों को अच्छी तरह से गर्म किया जाता है फिर उसके ऊपर सोल्डरिंग की जाती है.

आज के इस पोस्ट में हम ने आप को सोल्डरिंग आयरन कैसे बनता है सोल्डरिंग आयरन कैसे बनाये सोल्डरिंग आयरन प्राइस सोल्डरिंग के प्रकार सोल्डरिंग आयरन in hindi सोल्डरिंग आयरन का तापमान कितना होता है व्हाट इस सोल्डरिंग इन हिंदी सोल्डरिंग आयरन का बिट किसका बना होता है के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है अगर अभी भी इसके बारे में आप कुछ जानना चाहते हैं पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें और अगर आपको यह जानकारी फायदेमंद लगे और पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें.

Related Articles

9 Comments

  1. Tin 30% lead 40% solder me jada chmak ke lie kon
    Sa meatal milae
    Meatal ka nam batao
    Contact -8383987581

  2. Tin 30% lead 40% solder me jada chmak ke lie kon
    Sa meatal milae
    Meatal ka nam batao
    Contact -8383987581

  3. 4एमएम गैलवेनाइज्ड के दो तारों को जोड़ने के लिए कितने वॉट की soldering machine ki जरुरत पड़ेगी क्या यह संभव है

  4. 4एमएम गैलवेनाइज्ड के दो तारों को जोड़ने के लिए कितने वॉट की soldering machine ki जरुरत पड़ेगी क्या यह संभव है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Resistor क्या है ? प्रतिरोधक किसे कहते है जानें Diode क्या होती है इसके प्रकार और उपयोग सबसे सस्ता 3 किलोवाट सोलर सिस्टम घर पर लगायें सबसे सस्ता 2 किलोवाट सोलर सिस्टम घर पर लगायें बिजली फिटिंग का सामान