अल्टेरनेटिंग करंट (AC) और डायरेक्ट करंट (DC) क्या होते है

अल्टेरनेटिंग करंट (AC) और डायरेक्ट करंट (DC) क्या होते है

आज हमारा जीवन पूरी तरह से बिजली के ऊपर निर्भर हो गया है हमारे घर में हमें हर समय बिजली की आवश्यकता होती है चाहे कोई भी छोटा सा काम करें या फिर कोई बड़ा काम करें हमें बिजली की बहुत ज्यादा आवश्यकता होने लगी है. आज हमारा हर एक कार्य बिजली के ऊपर निर्भर हो गया है हम कुछ घंटे भी बिजली के बिना नहीं रह सकते. लेकिन हर किसी को नहीं पता कि हमारे घर में आने वाली बिजली या करंट किस प्रकार का होता है. अगर आपके घर में इन्वर्टर है तो आपके घर में AC और DC करंट दोनों है. हमारे घर में ज्यादातर उपकरण AC करेंट पर कार्य करते हैं. जैसे कि पंखे, मोटर, वाशिंग मशीन, फ्रिज इत्यादि .

लेकिन हमारा इनवर्टर DC करंट को AC में बदलने का काम करता है. इनवर्टर के साथ में लगी बैटरी इनवर्टर को DC सप्लाई देती है और फिर इनवर्टर उसे AC सप्लाई में बदलकर हमारे घर के उपकरण को चलाता है. तो इस प्रकार हमारे घर में AC और DC दोनों करंट की सप्लाई होती है. इसीलिए हमें इन दोनों करंट के बारे में पता होना बहुत ही जरूरी है. अगर आप एक विद्यार्थी हैं तो आप के सामान्य ज्ञान के लिए भी यह जानना जरूरी है तो आज इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि एसी करंट क्या होता है और डीसी करंट क्या होता है और इन दोनों में क्या अंतर है.

अल्टेरनेटिंग करंट (AC) और डायरेक्ट करंट (DC) क्या होते है

AC करंट क्या होता है

AC का पूरा नाम अल्टरनेटिंग करंट है.यह करंट एक निश्चित समय के बाद में अपनी दिशा (Direction) और मान (Value) बदलता है इसलिए इसे अल्टरनेटिंग करंट कहते हैं.

अल्टरनेटिंग करंट से बहुत अधिक वोल्टेज पैदा की जा सकती है इससे लगभग 33000 Volt तक पैदा की जा सकती है. अल्टरनेटिंग करंट का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे ट्रांसफार्मर की मदद से कम या ज्यादा किया जा सकता है.

अल्टरनेटिंग करंट को ज्यादा दूरी तक आसानी से भेजा जा सकता है. क्योंकि इसलिए ट्रांसफार्मर की मदद से कम या ज्यादा किया जा सकता है इसलिए पहले इसकी वोल्टेज को बढ़ाया जाता है और फिर जहां पर भी भेजना है वहां पर भेज कर इसकी वोल्टेज को आवश्यकता अनुसार कम कर दिया जाता है. और इसकी ट्रांसलेशन भी सस्ती होती है.

AC करंट Transmission कैसे होता है

अल्टरनेटिंग करंट को एक जगह से दूसरी जगह भेजने के लिए थोड़ा सी लंबी प्रक्रिया होती है. लेकिन इसे बहुत ही आसानी से और बिना किसी हानि के एक जगह से दूसरी जगह भेजा जा सकता है. जैसा कि ऊपर चित्र में दिखाया गया है सबसे पहले 12kV के अल्टरनेटिंग करंट को पावर प्लांट से भेजा जाता है और फिर इसे स्टेप अप ट्रांसफार्मर की मदद से इसकी वोल्टेज 400kV तक बढ़ाई जाती है. और फिर इसे हाई वोल्टेज ट्रांसमिशन लाइन के द्वारा अलग-अलग शहरों में भेजा जाता है. वहां पर इनका एक सब स्टेशन होता है जहां पर स्टेप डाउन ट्रांसफार्मर की मदद से इसकी वोल्टेज को फिर से 13kV तक कम किया जाता है और इसे फिर शहरों के अलग-अलग इलाकों और गांव में भेजा जाता है वहां पर फिर से स्टेप डाउन ट्रांसफार्मर की मदद से इसे 240V तक कम किया जाता है जिससे हमारे घर के सभी अल्टरनेटिंग करंट से चलने वाले उपकरण चलाए जाते हैं.

DC करंट क्या होता है

DC का पूरा नाम डायरेक्ट करंट होता है जो करंट दिशा और मान नहीं बदलता उसे डायरेक्ट करंट कहते हैं. अल्टरनेटिंग करंट का इस्तेमाल आज हर जगह किया जा रहा है लेकिन कुछ ऐसे कार्य है जहां पर डीसी करंट की आवश्यकता होती है

1.किसी भी प्रकार की कोई बैटरी चार्ज करने के लिए सिर्फ डीसी सप्लाई का इस्तेमाल किया जा सकता है. इसीलिए डीसी करंट को बैटरियों में स्टोर किया जा सकता है लेकिन एसी करंट को स्टोर नहीं कर सकते.

2.इलेक्ट्रोप्लेटिंग के काम में भी डीसी सप्लाई का इस्तेमाल किया जाता है.

3.टेलीविजन , रेडियो, कंप्यूटर, मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग के सभी काम डीसी सप्लाई पर निर्भर करते हैं.

4.करंट को मापने के यंत्र जैसे कि मल्टीमीटर टेस्टर इत्यादि में DC सप्लाई का इस्तेमाल किया जाता है.

AC to DC कन्वर्ट कैसे करें

अल्टरनेटिंग करंट को हम किसी भी बैटरी में स्टोर नहीं कर सकते इसके लिए हमें डायरेक्ट करंट की आवश्यकता होती है इसीलिए अल्टरनेटिंग करंट को पहले डायरेक्ट करंट में बदला जाता है और फिर उससे बैटरी को चार्ज किया जाता है. इसके लिए स्टेप डाउन ट्रांसफार्मर और रेक्टिफायर का इस्तेमाल किया जाता है और कैपेसिटर का इस्तेमाल किया जाता है जिससे कि हमें डायरेक्ट करंट मिल सकता है और हम बैटरी को चार्ज कर पाते हैं.

स्टेप डाउन ट्रांसफार्मर से हम पहले आवश्यकता अनुसार वोल्टेज को कम करते हैं जैसे कि अगर हमें 12v की बैटरी को चार्ज करना है तो हमें स्टेप डाउन ट्रांसफार्मर से 14-18v की सप्लाई चाहिए जिसे हम रेक्टिफायर की मदद से डीसी सप्लाई में बदलेंगे और इसे बैटरी को चार्ज करेंगे.

लेकिन हम अल्टरनेटिंग करंट को डायरेक्ट करंट में बदलकर इससे सिर्फ बैटरी को चार्ज नहीं कर सकते इसके अलावा हम ऐसे बहुत से उपकरण को अल्टरनेटिंग करंट से चलाते हैं जोकि डायरेक्ट करंट पर चलते हैं. जैसे कि टेलीविजन, रेडियो इत्यादि.

DC to AC कन्वर्ट कैसे करें

बैटरी को चार्ज करने के लिए अल्टरनेटिंग करंट को डायरेक्ट करंट में बदल लेते हैं लेकिन कई जगह हमें डायरेक्ट करंट को वापिस अल्टरनेटिंग करंट में बदलना पड़ता है इसका सबसे अच्छा उदाहरण है इनवर्टर. इनवर्टर का इस्तेमाल आज हर घर में किया जा रहा है और इसकी मदद से हम डायरेक्ट करंट को अल्टरनेटिंग करंट में बदलते हैं और अल्टरनेटिंग करंट पर चलने वाले सभी उपकरण को हम इनवर्टर पर चला सकते हैं.

इस पोस्ट में आपको अल्टेरनेटिंग करंट (AC) और डायरेक्ट करंट (DC) क्या होते है अल्टरनेटिंग करंट इन हिंदी डायरेक्ट करंट डीसी करंट एसी करंट डेफिनिशन व्हाट इस डीसी करंट एसी करंट क्या है डायरेक्ट करंट इन हिंदी direct current in hindi डीसी करंट एसी करंट डेफिनिशन व्हाट इस डीसी करंट से संबंधित पूरी जानकारी देने की कोशिश की है अगर इसके अलावा आपका कोई भी सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट करके जरूर बताएं.

40 Comments

Leave a Comment