Electrical

इन्वर्टर क्या है सिंपल इन्वर्टर कैसे बनाये

इन्वर्टर क्या है सिंपल इन्वर्टर कैसे बनाये

अगर आपको नहीं पता कि इन्वर्टर क्या है यह कैसे काम करता है तो हम आपको बता दें कि इन्वर्टर एक ऐसा उपकरण है जो DC करंट को AC करंट में बदल देता है. इसके लिए कुछ इलेक्ट्रॉनिक के कंपोनेंट को जोड़कर सर्किट बनाया जाता है. जो कि DC करंट को AC करंट में बदलने का काम करता है.

इनवर्टर का इस्तेमाल आज लगभग हर एक घर में हो रहा है जहां पर भी बिजली की समस्या होती है वहां पर इनवर्टर का इस्तेमाल काफी किया जाता है. लेकिन इनवर्टर इतना छोटा उपकरण नहीं है कि इसे हम उठा कर कहीं पर भी आसानी से ले जाए जहां पर हमें इन्वर्टर की जरूरत हो.

जैसे कि अगर आपको कहीं पर इमरजेंसी में CFL को ऑन करना है और वहां पर आपका किसी तरह का कोई इन्वर्टर का कनेक्शन नहीं है और ना ही आप वहां तक इनवर्टर के तार को लेकर जा सकते.

ना ही आप इनवर्टर को उठाकर वहां पर लेकर जा सकते. तो ऐसी स्थिति में आपको एक ऐसे उपकरण की जरूरत पड़ती है जो कि आप की एक छोटी सी CFL को ON कर सके.

तो इसीलिए आज हम आपको इस पोस्ट में एक साधारण इनवर्टर बनाने के बारे में बताएंगे जिससे आप कहीं पर भी CFLs,tube lights इत्यादि छोटे उपकरण को चला सकते हैं यह इनवर्टर 150W तक लोड चला सकता है.

हमारे घर में इस्तेमाल होने वाली CFL 10W की होती है तो आप इस इन्वर्टर की मदद से एक समय पर कम से कम 10 CFL आराम से जला सकते हैं. तो नीचे आपको इन्वर्टर क्या है सोलर इन्वर्टर इन्वर्टर कैसे बनाये इन्वर्टर कनेक्शन how to make a simple inverter at home in hindi , इन्वर्टर बनाने की विधि के बारे में पूरी जानकारी दी गई है .

Step 1: Inverter बनाने का सामान

यह इनवर्टर हम इंटीग्रेटेड सर्किट की मदद से बनाएंगे जिससे कि यह काफी कम कीमत में और एक अच्छा इन्वर्टर बन सकता है . नीचे आपको इसका सर्किट डायग्राम दिखाया जाएगा जिसके अंदर आप देख सकते हैं कि इस इन्वर्टर में हमने CD 4047 इंटीग्रेटेड सर्किट का इस्तेमाल किया है . और यह इनवर्टर square wave बाला है जो कि 150W तक के लोड को चला सकता है. ज्यादा से ज्यादा efficiency के लिए इसमें IRFZ44 power MOSFET का इस्तेमाल किया गया है . इस इन्वर्टर को बनाने के लिए हमें जिन जिन components की जरूरत पड़ेगी उस की सूची नीचे दी गई है .

  • 12-0-12, 10A Center Tapped ट्रांसफार्मर
  • 12V रिचार्जेबल बैटरी
  • 0.22µF कैपसिटर
  • 2 IRFZ44 MOSFET (इनकी Heat sinks भी )
  • PCB board
  • 18 Pin DIP IC Socket Base Connector
  • 1K, 18KResistors
  • 100Ω (1W x 2) Resistors
  • 1 – IC CD4047
  • 3 PIN PCB Mount Screw Terminal Block Connectors

ऊपर आपको फोटो में सभी कॉन्पोनेंट की फोटो दिखाई गई है जिससे आप यह कॉन्पोनेंट खरीदते समय पहचान सकते हैं कि कौन सा कॉन्पोनेंट गलत है और कौन सा सही है. यह कॉन्पोनेंट आपको मार्केट में आसानी से मिल सकते हैं और यह आपको 1500 से 2000 रुपए तक मिल जाएंगे .

Step 2: Fitting and Wiring

अब आपके पास सभी कंपोनेंट है तो इसे आपको अब जोड़ लेना है ट्रांसफार्मर को छोड़कर बाकी सभी कॉन्पोनेंट आप एक PCB बोर्ड के ऊपर लगा दीजिए और इनकी सोल्डरिंग कर दीजिए ताकि कोई भी कंपोनेंट हिलेना और सही तरह से जुड़े रहे . सभी कंपोनेंट को जोड़ने के लिए आपको नीचे दिया गया डायग्राम बहुत ध्यानपूर्वक देखना है और कौन सा कॉर्पोरेट कहां पर और किस प्रकार जोड़ा गया है इस बात का विशेष ध्यान रखना है .

ऊपर दिया गया सर्किट डायग्राम देखकर सबसे पहले आप PCB पर IC Socket Base Connector को सेट करें .और फिर सभी दूसरे कॉन्पोनेंट को इससे जुड़े और सभी कंपोनेंट जोड़ने के बाद में ट्रांसफार्मर का कनेक्शन करें. और सबसे आखरी में बैटरी के कनेक्शन करें.

Step 3: Battery Charger बनाये

जैसा की हमने पहले ही बताया इसके लिए हमें रिचार्जेबल बैटरी की जरूरत पड़ेगी. तो जैसे ही आप की बैटरी डाउन हो गई तो उसे चार्ज करने के लिए आपको चार्जर की जरूरत पड़ेगी इसके लिए आप एक साधारण चार्जर बना सकते हैं. अगर आप एक बढ़िया ऑटोमेटिक बैटरी चार्जर बनाना चाहते हैं तो इसके बारे में हमने पहले एक पोस्ट में बताया है वह देखें .

Automatic Battery Charger बनाये

इसके लिए आपको 15-0 V 2A का Transformer , 4 Diode ,1 Capacitor 1000uF 25V का चाहिए .

जैसा कि आप ऊपर डायग्राम में देख सकते हैं. इसमें सिर्फ रेक्टिफायर के बाद में आपको एक कैपिसिटर लगाना है और एक LED प्रतिरोधक के साथ में लगानी है. बाकी जब भी आपकी बैटरी चार्ज हो तब यह LED जलना शुरु हो जाए. लेकिन इस साधारण बैटरी चार्जर के नुकसान है अगर आपकी बैटरी फुल चार्ज हो जाएगी तब आपको पता नहीं चलेगा और यह बैटरी को चार्ज करता रहेगा जिससे आपकी बैटरी खराब भी हो सकती है. अगर आपको पता है कि आपकी बैटरी कितनी देर में फुल चार्ज होती है तभी आप इस चार्जर का इस्तेमाल कर सकते हैं नहीं तो आपको नीचे दिया गया बैटरी चार्जर बनाना होगा.

इसमें आपको बैटरी फुल होने के बाद में आपको पता चलेगा कि बैटरी फुल हो चुकी है तब आप उसे बंद कर सकेंगे जिससे कि आपकी बैटरी ज्यादा चार्ज नहीं होगी और बैटरी सुरक्षित रहेगी.

सोलर इन्वर्टर क्या है कैसे काम करता है

Step 4: इन्वर्टर चलाये

सभी कनेक्शन होने के बाद में आप अपने इनवर्टर को शुरू कर सकते हैं आप इनवर्टर पर चार्जर ना लगाएं जब आपके इनवर्टर की बैटरी डाउन होती है तो बैटरी को इनवर्टर से अलग करके और चारजर पर लगाएं. इस साधारण चार्जर से आपकी बैटरी कब फुल हो गई

यह आप को पता नहीं चलेगा इसके लिए आप एक समय सीमा रखें कि आपकी बैटरी 1 घंटे तक ही चार्ज करें या 2 घंटे तक ही चार्ज करें या इसके बजाय आप एक बढ़िया बैटरी चार्जर बना सकते हैं जिसमें जब बैटरी फूल होगी तो वह ऑटोमेटिकली उसे चार्जिंग करना बंद कर देगा.

इस इन्वर्टर का भार लगभग 3 किलो का है और इसका भार इसमें लगी बैटरी और ट्रांसफार्मर के कारण है. इस पोस्ट में आपको इनवर्टर बनाने के बारे में पूरी जानकारी दी गई है जैसे कि इन्वर्टर बनाने के लिए आपको कौन-कौन से सामान की जरूरत पड़ेगी ,

इनवर्टर बनाने के लिए आपको कितने रुपए तक का सामान मिलेगा और कैसे आप घर पर ही अपना इनवर्टर बना सकते हैं यह इनवर्टर बनाने का प्रोजेक्ट आप कॉलेज में दिखा सकते हैं .अगर आपको यह इन्वर्टर बनाने में कहीं पर कोई भी दिक्कत आ रही है तो नीचे कमेंट करके आप इसके बारे में पूछ सकते हैं.

Related Articles

9 Comments

  1. Hi mera nam deepak hai mujhey 12 ek ups banana hai jo fully automatic ho jo battery charge honey ke bad automatically cut of ho jaye aur battery kharab na ho

  2. SIR MY NAME IS SUMIT KATIYAR SIR HAMKO INVARTAR 12012ke simple tronsfarmar daura chaiea jo HAME OUTPUT suplle me 150 as200 voltas ac krant de our usme 4daiod capicator ho sis charan sparch.

  3. SIR MY NAME IS SUMIT KATIYAR SIR HAMKO INVARTAR 12012ke simple tronsfarmar daura chaiea jo HAME OUTPUT suplle me 150 as200 voltas ac krant de our usme 4daiod capicator ho sis charan sparch.

  4. I want to design 800mva pure sinusoidal inverter plz help me
    Hme ye project e mila hai hamare college se

  5. I want to design 800mva pure sinusoidal inverter plz help me
    Hme ye project e mila hai hamare college se

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Resistor क्या है ? प्रतिरोधक किसे कहते है जानें Diode क्या होती है इसके प्रकार और उपयोग सबसे सस्ता 3 किलोवाट सोलर सिस्टम घर पर लगायें सबसे सस्ता 2 किलोवाट सोलर सिस्टम घर पर लगायें बिजली फिटिंग का सामान